मेरे स्नेही जन

Wednesday, October 3, 2012

संदेश… नन्हें पथिक को




एक में भी अनेक हो तुम
तुम से है, पहचान हमारी
तुम्हें देखती दुनिया सारी ।
ज्ञान के नन्हें दीप तुम
सूर्य के नन्हें प्रतीक  तुम
वक्त के साथ बढ़ना है ,
 उच्च शिखर पर चढ़ना है ।
अंजली भर सपने बटोर रहे
हर सपना सच करना है
दूर बहुत चलना है, पथिक
हौसलाऔर बुलन्द करना है ।
चाहत की तस्वीर हो तुम
भारत की तकदीर हो तुम
बुलंदी के उस पार जाना है
सारा जाहाँ जगाना है ।
न होना निराश कभी तुम
न खोना विश्वास कभी तुम
सिर्फ हाथ भर की दूरी है
छूने को आसमां है ।
नित नया निर्माण करो तुम
कण-कण में प्राण भरो तुम
नव चेतन जोत जगाना है
नव भारत तुम्हें बनाना है ।
*******************
महेश्वरी कनेरी

19 comments:

  1. मेरे नए ब्लाग में आप सब का स्वागत है..

    ReplyDelete
  2. नव चेतन जोत जगाना है
    नव भारत तुम्हें बनाना है ।

    सुंदर विचार और सुंदर प्रयास ...
    शुभकामनायें नए ब्लॉग के लिए ....!!

    ReplyDelete
  3. शुभकामनाऎं !
    बहुत सुंदर !
    वर्ड वैरिफिकेशन हटा दें तो टिप्पणी देने में आसानी हो जाये !

    ReplyDelete
  4. नए ब्लॉग के लिए शुभकामनाएँ
    बहुत-बहुत सुन्दर विचार व्यक्त करती रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  5. प्यारी कविता ....प्यारा सा ब्लॉग.... थैंक यू

    ReplyDelete
  6. बढिया है, यहां आकर कम से कम बचपन तो याद आएगा।
    नए ब्लाग के लिए बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छा संदेश दिया है आंटी!
    ब्लॉग बहुत ही अच्छा है।


    सादर

    ReplyDelete
  8. कल 07/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. पौधों को पानी और उचित खाद देना इसे कहते हैं ....

    ReplyDelete
  10. एक बार फिर से बचपन याद आ गया

    ReplyDelete
  11. नए ब्लॉग के लिए बहुत-बहुत बधाई और बहुत-बहुत शुभकामनाये दीदी ..... :))

    नित नया निर्माण करो तुम
    कण-कण में प्राण भरो तुम
    नव चेतन जोत जगाना है
    नव भारत तुम्हें बनाना है ।

    आशीष आपका है दीदी ,
    तो फलित-फलीभूत होना ही होगा !!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर कविता ......

    ReplyDelete
  13. सुंदर भाव। पढ़कर मन त्रिप्त हो गया कभी मेरे ब्लौग http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com पर भीआना अच्छा लगेगा।

    ReplyDelete
  14. बहुत-बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर संदेश देती रचना .... नन्हें पथिक थक न जाना ..... नए ब्लॉग के लिए शुभकामनायें

    ReplyDelete
  16. नन्हें पथिक के साथ मै भी हूँ

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर है

    ReplyDelete
  18. नए ब्लॉग के लिए बहुत सारी बधाई और शुभकामनाये दी....
    बहुत सुन्दर रचना...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete